Short Status for Whatsapp

Home » Whatsapp Status » Short Status for Whatsapp

Short Status for Whatsapp

Short Status for Whatsapp 

 

क़यामत टूट पड़ती है ज़रा से होंठ हिलने पर...
जाने क्या हश्र होगा जब वो खुलकर मुस्कुरायेंगे!

मेरी यादो मे तुम हो या मुझ मे ही तुम हो... 
मेरे खयालो मे तुम हो या मेरा खयाल ही तुम हो...
दिल मेरा धड़क के पूछे बार-बार एक ही बात...
मेरी जान मे तुम हो या मेरी जान ही तुम हो!

मत हटाया करो यूँ दुपट्टे अपने चेहरे से...
सीधा-साधा सा दिल मेरा बेइमान होने लगता है!
 
लम्हों का ये इश्क़ नहीं सदियों की ये मोहब्बत है...
कैसे करें शिक़ायत तुझे हर साँस को तेरी चाहत है!

जिंदगी एक लहर थी फिर आप हासिल हुए...
न जाने कैसे हम आपके काबिल हुए...
न भूल पाएंगे कभी उस हंसी पल को...
जब आप हमारी जिंदगी में शामिल हुए!

तू चाहे कितना भी संवर ले पगली खुशी तो तेरे चेहरे पे... 
तभी आयेगी जब हम तुमसे मिलने आयेंगे!

तुम जो कहते हो ना ख़ुश रहा करो...
तो फिर सुन लो हमेशा मेरे पास रहा करो!

जिंदगी सुन्दर हैं पर जीना नहीं आता...
हर चीज मे नशा हैं पर पीना नहीं आता...
सब मेरे बगैर जी सकते हैं...
बस मुझे ही तेरे बिना जीना नहीं आता!

आप खुद नहीं जानती आप कितनी प्यारी हो...
जान हो हमारी पर जान से प्यारी हो...
दूरियों के होने से कोई फर्क नही पड़ता...
आप कल भी हमारी थी और आज भी हमारी हो!

अंदाज-ऐ-प्यार तुम्हारी एक अदा है...
दूर हो हमसे तुम्हारी खता है...
दिल में बसी है एक प्यारी सी तस्वीर तुम्हारी...
जिस के नीचे ‘आई मिस यू’ लिखा है!

तुम रखा करो कोशिश" यूँ ही "गुलाब" सा "खिलने" की...  
इस "दिल" में रहेगी "ख़्वाहिश" तुमसे "बार-बार" मिलने की!

मोहब्बत का कोई रंग नहीं फिर भी वो रंगीन है...
प्यार का कोई चेहरा नहीं फिर भी वो हसीन हैं

तेरी बातो मे ज़िक्र मेरा मेरी बातो मे ज़िक्र तेरा...
अजब सा ये इश्क है ना तू मेरा ना मै तेरा!

मुझे रहना तेरी आँखों में है... पर कैसे रहूं ...
तेरी आँखों में सपने भरे है और में तो हकीकत हूँ!

जिस्मानी नहीं है... जरा रूहानी है... सूफियानी  है...
मेरा इश्क़ भी और मैं भी!

सुबह हो गई है हमें भी पता है... 
पर वो आँखे कैसे खोल दूँ...
जो ख्वाबो में तुम्हे देख रही हैं!

बिखरे अंधेरे में टूटती मशाल हूँ मैं...
जो कभी ना समझोगे तुम वो सवाल हूँ मैं!

शांत-शांत बैठे रहोगे तो कैसे बनेंगी कहानियाँ...
कुछ तुम बोलो कुछ हम बोले..तभी तो बनेंगी शायरियाँ!

मुझे ना सर पे ताज‬ चाहिये ना दुनिया पे राज‬ चाहिये...
बस इतनी ही माँग है भगवान‬ से...
मेरी जान हमेशा मेरे पास चाहिये!

दिल में तुम्हारी अपनी कमी छोड़ जायेंगे...
आँखों में इंतज़ार की लकीर छोड़ जायेंगे...
याद रखना भूल न पाओगे हमें... 
प्यार की ऐसी कहानी छोड़ जायेंगे!

क्या पता था कि मोहब्बत ही हो जायेगी...
हमें तो बस तेरा मुस्कुराना अच्छा लगा था!

ये उड़ती ज़ुल्फें तेरी और ये प्यारी मुस्कान...
एक अदा से संभलूँ तो दूसरी होश उड़ा देती है मेरा!

मदहोश नजरो मे इश्क की चाहत उभर आई है...
मोहब्बत को छुपालूँ दिल में आँखें तो हरजाई है!

हजार रातों की करवटें गवाह हैं...
कि कितना तड़पे हैं हम तेरी यादों में!

ना झुकने का शौक है... ना झुकाने का शौक है...
कुछ एहसास दिल से जुड़े है बस उन्हे निभाने का शौक है!

कौन कहता है मोहब्बत बरबाद करती है...
निभाने वाला मिल जाए तो दुनिया याद करती है!

दिल बस अब तुझे ही चाहता है...
तेरी यादो में ये खो जाता है...
लग गयी है इसमें इश्क़ की आग ऐसी के...
तुझे चूमने को जी चाहता है!

तुम मुझे मिलो या ना मिलो मेरी तो बस...
यह दुआ है तुमे जमाने की हर खुशी मिले!

बिना छुए ही तुम्हें स्पर्श कर लेना...
बस यही तो एक हुनर है मेरी शायरियों में!

मैं ये नहीं कहता कि...
कोई तुम्हारे लिए दुआ ना माँगे...
मै बस इतना चाहता हो कि...
कोई दुआ में तुम्हे ना माँग ले!

तेरे हुस्न को नकाब की जरुरत ही क्या है...
न जाने कौन रहता होगा होश में तुझे देखने के बाद!

बहुत खूबसूरत है आखें तुम्हारी इन्हें बना दो किस्मत हमारी... 
हमें नहीं चाहिये ज़माने की खुशियाँ अगर...
मिल जाये मोहब्बत तुम्हारी!

तू रूठी रूठी सी लगती है कोई तरकीब बता मनाने की...
मैं ज़िन्दगी गिरवी रख दूंगा तू क़ीमत बता मुस्कुराने की!

तुम को जान से प्यारा बना लिया दिल का सुकून...
आंख का तारा बना दिया अब तुम साथ दो या न दो...
ये तुम्हारी मर्ज़ी हमने तो तुम्हे ज़िन्दगी का सहारा बना लिया!

फुर्सत मिले तो उन का हाल भी पूछ लिया करो...
जिनके सीने में दिल की जगह तुम धड़कते हो!

तुम फिर आ गये मेरी शायरी में...
क्या करूँ न मुझसे शायरी दूर जाती है न मेरी शायरी से तुम!

मोहब्बत के लिए खूबसूरत होने की कैसी शर्त...
इश्क हो जाए तो सब कुछ खूबसूरत लगने लगता है!

किसी न किसी पे किसी को ऐतबार हो जाता है... 
अजनबी कोई शख्स यार हो जाता है...
खूबियों से नहीं होती "मोहब्बत" सदा...
खामियों से भी अक्सर "प्यार" हो जाता है!

काश की खुशियों की दुकान होती...
उनमें हमारी थोड़ी पहचान होती...
सारी खुशियाँ डाल देता तेरी दामन में चाहे...
उनकी कीमत हमारी जान क्यों न होती!

बस आप मुस्करा दें तबीयत ख़ुश हो जाती है मेरी...  
सारे शहर में ढूँढ लिया हकीम पर आप जैसा नहीं मिला!

दीदार की तलब हो तो नज़रे जमाए रख...
क्यूंकि नकाब हो या नसीब... सरकता जरूर है!

वो रख ले कहीं अपने पास हमें कैद करके...
काश की हमसे कोई ऐसा गुनाह हो जाये!

फितूर होता है हर उम्र में जुदा-जुदा...
खिलौने, माशूका, रुतबा और फिर खुदा!

इस से ज़्यादा तुम्हे और कितना करीब लाऊँ मैं...
कि तुम्हे दिल में रख कर भी मेरा दिल नहीं भरता!

यह इश्क़ है या कुछ और यह तो पता नहीं...  
पर जो भी है वह किसी और से नहीं!

कभी सुबह को याद आते हो कभी शाम को याद आते हो...
कभी-कभी इतना याद आते हो कि...
आइना हम देखते हैं नजर तुम आते हो!

हर कर्ज मोहब्बत का अदा करेगा कौन...
जब हम नहीं होंगे तो वफ़ा करेगा कौन...
या रब मेरे मेहबूब को रखना तू सलामत...
वरना मेरे जीने की दुआ कौन करेगा!

पलकों में कैद कुछ सपने हैं कुछ बेगाने कुछ अपने हैं...
न जाने क्या कशिश है इन ख्यालों में...
आप हमसे दूर होके भी कितने अपने है!

बहुत खूबसूरत होती है एक तरफ़ा मोहब्बत...
न शिकायत होती है न कोई बेवफाई!

कुछ लोग जिंदगी में ऐसे होते हैं...
चाहे वो तकलीफ कितनी भी दे...
पर सुकून उन्ही के पास मिलता है!

पता है हमें प्यार करना नहीं आता मगर...
जितना भी किया है सिर्फ तुमसे किया है!

तेरी हर अदा मोहब्बत सी लगती हहै 
एक पल की जुदाई मुद्दत सी लगती है...
पहले नही सोचा था अब सोचने लगे है हम...
जिंदगी के हर लम्हों में तेरी ज़रूरत सी लगती है!

प्यार करना सिखा है… नफरतो का कोई जगह नहीं...
बस तु ही तु है इस दिल में दूसरा कोई और नहीं!

खुशबु के बिना फूल अधूरा है चाँदनी के बिना चाँद अधूरा है...
मन के बिना इंसान अधुरा है जान तुम्हारे बिना मैं अधुरा हुँ!

क्या खूब रंग दिखाती है जिंदगी क्या इक्तेफ़ाक होता है...
प्यार में ऊम्र नही होती पर हर ऊम्र में प्यार होता है!

वो रूठकर बोला...
तुम्हे सारी शिकायते हमसे ही क्यों है...
हमने भी सर झुकाकर बोल दिया कि...
हमें सारी उम्मीदे भी तो तुमसे ही है!

आँखों के इशारे समझ नहीं पाते...
होठों से दिल की बात कह नहीं पाते...
अपनी बेबसी हम किस तरह कहें...
कोई है जिसके बिना हम रह नहीं पाते!

किसी को अपनी पसंद बनाना कोई बड़ी बात नहीं...
पर किसी की पसंद बन जाना बहुत बड़ी बात है!

जिंदगी शुरू होती है रिश्तों से रिश्ते शुरू होते है प्यार से...
प्यार शुरू होता है अपनों से...
और अपने शुरू होते है आपसे!

आँखों की नजर से नहीं...
हम दिल की नजर से प्यार करते हैं...
आप दिखे या ना दिखे फिर भी हम आपका दीदार करते हैं!

थाम लूँ तेरा हाथ और तुझे इस दुनिया से दूर ले जाऊँ...
जहा तुझे देखने वाला मेरे सिवा कोई और ना हो!

इश्क वो नहीं जो तुझे मेरा कर दे...
इश्क वो है जो तुझे किसी और का ना होने दे!

तेरे प्यार का कितना खूबसूरत एहसास है...
दूर होकर भी लगता है जैसे तू हर पल मेरे आस पास है!

क्या तुमने कभी सोचा है जब तुम किसी और से...
बात करते हो तो हमें कितनी जलन होती होगी!

अच्छा सुनो... मैं तुमको बेपनाह चाहूँगा...
और तुम मेरी नकल कर लेना!

अपनी आवाज़ तो सुना दो...
सब्र कभी और आजमा लेना!

एहसासों के पांव नहीं होते...
फिर भी दिल तक पहुंच ही जाते हैं!

होते हैं हादसे सब के साथ...
एक बार मुहब्बत मुझे भी हुईं थी!

मोहब्बत पनप रही है दिल मे...
तुम नजरो से समझ लो!

दिल तो हम हर लडकी का चुरा सकते है...
लेकिन माँ कहती है की चोरी करना बुरी बात है!

बदल जाती है हक़ीक़त ज़िंदगी की...
जब मुस्कुराकर तुम कहते हो... बहुत प्यारे हो तुम!

तन्हाई मैं मुस्कुराना भी इश्क़ है... 
इस बात को सब से छुपाना भी इश्क़ है...
यूँ तो रातों को नींद नहीं आती है...
पर रातों को सो कर भी जाग जाना इश्क़ है!

अदा से इशारे से युँ प्यार  जता जाना...  
लाज़मी था सनम तेरा दिल मे समा जाना!
 
कुछ ख़याल ऐसे ही मेरे दिल में आते जाते हैं...
कुछ उनकी यादों मे डूबके हम मुस्कुराते हैं...
कभी खो जाते हैं हम उनकी तस्वीर में... 
और कभी उन्ही के नाम से खुशी के गीत गाते हैं!

मैं ही क्यूँ दिल टटोल कर तुम्हारा वजूद जानूं...
कभी तुम भी धड़क कर ज़रा मेरा हाल पूछो!

इतना दिल से ना लगाया करो मेरी बातो को...
कोई बात दिल में रह गई तो हमे भुला नहीं पाओगे!

खाली पलके झुका देने से नींद नही आती है जनाब...
सोते वो लोग है जिनके पास किसी की यादें नहीं होती!

मेरे मुस्कराते चेहरे को देख तुम क्या समझोगे...
मुझे तो वो नहीं समझ पाया...
जिसने मुझे मुस्कराना सिखाया!

खुबसूरत इशारों में वो हम पर अपना हक जता देते हैं... 
वो मेरे नही होते पर हमे अपना बता देते है!

उनका इतना सा किरदार है मेरे जीने में...
कि उनका दिल धड़कता है मेरे सीने में!

मेरे सारे सवाल होंठों पर ही रह जाते हैं...
और तुम सारे ज़वाब आँखों से दे जाते हो!

जिसने तेरी आँखों की शरारत नहीं देखी...  
वो लाख कहे पर उसने मोहब्बत नहीं देखी!

थाम लूँ तेरा हाथ और तुझे इस दुनिया से दूर ले जाऊँ 
जहा तुझे देखने वाला मेरे सिवा कोई और ना हो!

इश्क वो नहीं जो तुझे मेरा कर दे...
इश्क वो है जो तुझे किसी और का ना होने दे!

क्या तुमने कभी सोचा है जब तुम किसी और से...
बात करते हो तो हमें कितनी जलन होती होगी!

लकीरें तो हमारी भी बहुत ख़ास है...
तभी तो आप जैसे लोग हमारे पास है!

बिना मिले ही तेरा यूं प्यार करना मुझसे...
बस तेरी यही चाहत तो मुझे पसन्द है!

प्यार तो जिंदगी का एक अफसाना है...
इसका अपना ही एक तराना है...
सबको मालूम है कि मिलेंगे सिर्फ आंसू...
पर फिर भी दुनिया में हर कोई इसका दीवाना है!

दौलत नहीं शोहरत नहीं न वाह-वाह चाहिए...
कैसे हो कहाँ हो बस दो लफ़्जों की परवाह चाहिए!

तेरी यादों की खुशबू से, हम महकते रहतें हैं... 
जब जब तुझको सोचते हैं बहकते रहतें हैं!

महकी महकी सी जो ये मेरी लिखावट है...
लफ़्ज़ों में तेरे प्यार की थोड़ी सी मिलावट है!

ना चूरा तु मेरी नज़रो को अपनी निगाहो से...
दिल को सम्भालना मुश्किल हो जाता है तेरी इन अदाओं से!

तेरे लहजे में लाख मिठास सही मगर...
मुझे जहर लगता है तेरा औरों से बात करना!

जीने की उसने हमे नई अदा दी है...
खुश रहने की उसने दुआ दी है...
ऐ खुदा उसको खुशियाँ तमाम देना...
जिसने अपने दिल मे हमें जगह दी है!

खिड़की से झांकता हूँ मैं सबसे नज़र बचाकर...
बेचैन हो रहा हूँ क्यों घर की छत पे आकर...
क्या ढूँढता हूँ जाने क्या चीज खो गई है...
इन्सान हूँ शायद मोहब्बत हमको भी हो गई है!

जी भर क देखू तुझे अगर गवारा हो...
बेताब मेरी नज़रे हो और चेहरा तुम्हारा हो...
जान की फिकर हो न जमाने की परवाह हो...
एक तेरा प्यार हो जो बस तुमारा हो!

ऐ रात तू मेरे अकेलेपन पर इस कदर मत हंस...
वरना तू उस दिन बहुत पछताएगी...
जब मेरी मोहब्बत मेरी बांहों में होगी!

प्यार का शुक्रिया कुछ इस तरह अदा करूँ
आप भूल भी जाओ तो मैं हर पल याद करूँ
प्यार ने बस इतना सिखाया है मुझे...
कि खुद से पहले आपके लिए दुआ करूँ!

दिल की हर बात ज़माने को बता देते हैं...
अपने हर राज़ से परदा उठा देते हैं...
चाहने वाले हमें चाहे या ना चाहे...
हम जिसे चाहते है उस पर जान लूटा देते हैं!

लिखूँ क्या नज्म कोई तुझ पर गजल का खुद तू लिबास है!
मुकम्मल इश्क़ में ड़ूबे हुए शायर का तू लब्ज खास है!

एक रोज तुमसे जरूर मिलेंगे दिल के सारे अरमान कहेंगे...
तूम हमारी साँसे बनना हम तुम्हारी जान बनेंगे!