Sad Shayari Status in Hindi

Home » Whatsapp Status » Sad Shayari Status in Hindi

Sad Shayari Status in Hindi

Sad Shayari Status in Hindi

 

राहत मिली ना दिल को ना चैन मिला ना सकून...

बारिस भी होती रही रातभर और कमबख्त दिल भी जलता रहा! 

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

नज़र ने नज़र से मुलाक़ात कर ली...

रहे दोनों खामोश पर बात करली...

मोहब्बत की फिजा को जब खुश पाया...

इन आंखों ने रो रो के बरसात कर ली!

 

तुझे देखु तो सारा जहाँ रंगीन नज़र आता है...

तेरे बिना दिल को चेन किसको आता है...

तुम ही हो मेरे दिल की धड़कन...

तेरा बिना यह संसार आवारा नज़र आता है!

 

किसे सुनायेंगे अपने गम के चन्द पन्नों के किस्से... 

यहाँ तो हर शख्स भरी किताब लिए बैठा है! 

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

बहुत चाहा उसको जिसे हम पा न सके...

ख्यालों में किसी और को ला न सके...

उसको देख के आंसू तो पोंछ लिए...

लेकिन किसी और को देख के मुस्कुरा न सके!

 

सच है... ख्वाहिशों की कोई हद्द नही होती... 

मेरी ही ख्वाहिशों को देखो...

तुम तुम और बस तुम! 

 

जख्म ही देना था तो पूरा जिस्म तेरे हवाले था...

लेकिन कम्बख़त ने जब भी वार किया...

दिल पर ही किया!

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

तू नाराज न रहा कर तुझे वास्ता है खुदा का… 

एक तेरा ही चेहरा खुश देखकर तो मैं अपना गम भुलाता हूँ!

 

उनकी चाहत में हम कुछ यूँ बंधे हैं कि...

वो साथ भी नहीं और हम अकेले भी नहीं! 

 

इश्क महसूस करना भी इबादत से कम नहीं...

ज़रा बताइये छू कर खुदा को किसने देखा है!

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

काश रोने से नसीब बदल जाता…

कसम तुम्हारी आंसुओं से दुनिया डुबो देते!

 

मुझे रात दिन ये ख़्याल है...

कही तू नज़र से गिरा ना दे...

क्योंकि तेरी एक नज़र की बात है...

पर ये मेरी ज़िंदगी का सवाल है!

 

मैं वो किताब का पहला पन्ना हूँ...

जिसके होने या नहीं होने से किसी...

को कोई फर्क नहीं पड़ता!

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

क्या ऐसा नहीं हो सकता कि...

हम प्यार मांगे और तुम गले लगा के कहो... और कुछ?

 

ख्वाहिश थी उस रिश्ते को बचाने की…

और यही वजह थी मेरे हार जाने की!

 

मेरी कब्र पर वो मुझे रुलाने आयी है...

हमसे है मोहब्बत ये बताने आयी है...

जब तक जिंदा थे बहुत रुलाया हमे...

कब जो चैन से सोये हैं... तो जगाने आयी है!

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

दिल में धड़कन और धड़कन में तुम...

क्यों दिया धोखा अकेले रह गए हम!

 

वजह की तलाश में वक्त ना गवाया करो...

वेवजह...बेपरवाह...बेझिझक...बस मुस्कुराया करो!

 

उजाड़ के मेरी दुनिया कितने खुश हैं वो...

जो कभी हमारे रोने में खुद भी रोया करते थे!

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

मसला तो सिर्फ एहसासों का है जनाब...

रिश्ते तो बिना मिले भी सदियाँ गुजार देते हैं!

 

तुमको पाकर भी मेरे हाथ खाली रह गए...

क्यों कशमकश में ही मेरे ज़ज्बात रह गए...

कुछ बातें कुछ यादें और थोड़ी सी तन्हाई...

बस कुछ ख्यालों के साये मेरे साथ रह गये!

 

उजड़ जाते हैं सर से पाँव तक वह लोग...

जो किसी बेपरवाह से बेपनाह मोहब्बत करते हैं!

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

कुछ उलझे हुए सवालों से डरता है दिल...

ना जाने क्यों तन्हाई में बिखरता है दिल...

किसी को पा लेना कोई बड़ी बात तो नहीं...

पर उनको खोने से डरता है यह दिल!

 

हक़ उतना ही जताइये जितना जायज़ लगे...

रिश्ता फेरों का हो या मोहब्बत का घुटन न लगे!

 

मिटा दिया प्यार जिसने हमारे दिल से...

हम उनका नाम लिख कर भी मिटा ना सके!

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

किसी का क्या जो कदमों पर जबीं-ए-बंदगी रख दी...

हमारी चीज थी हमने जहाँ जानी वहाँ रख दी...

जो दिल माँगा तो वो बोले ठहरो याद करने दो...

जरा सी चीज़ थी हमने जाने कहाँ रख दी!

 

भरी रहे अभी आँखों में तेरे नाम की नींद...

तू ख़्वाब है तो यूँ ही देखने से गुजरेगा!

 

भूल जाओ उनको जिन्हें तुम माफ नहीं कर सकते...

या माफ कर दो उनको जिन्हें तुम भूल नहीं सकते!

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

इस ज़माने में हजारों महफिलें सजी हैं...

और लाखों मेले हैं लेकिन...

जहाँ तू नहीं वहाँ हम बिल्कुल अकेले हैं!

 

मेरे अल्फाज़ों को झूठ ना समझना...

याद आती हो बहुत मिलने की दुआ करना...

जी रहा हूँ तुम्हारा नाम लेकर...

मर जाऊँ तो बेवफा ना समझना!

 

मत फेंक पानी में पत्थर उसे भी कोई पीता होगा...

मत रह यूँ उदास जिन्दगी में तुम्हें देखकर कोई जीता होगा!

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

तेरी तलब की हद ने ऐसा जूऩून बख्शा...

हम नींद से उठ गए तुझे ख़्वाब में 'तन्हा' देखकर!

 

अगर रब पूछे... तेरी हसरत क्या है... सनम...

तो कहेंगे...

क़रार उसे भी न मिले जो हमें बेक़रार करके गया!

 

मुझें बहुत प्यारी है तुम्हारी दी हुई हर निशानी...

चाहे वो दिल का दर्द हो या आँखों का पानी!

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

लाख चाहता हूँ कि तुझे याद ना करूँ…

मगर इरादा अपनी जगह बेबसी अपनी जगह!

 

गैर थे कौन अपने थे कौन हम ये समझ न पाए...

हमने देखा जिधर भी चेहरे बदले से नजर आए!

 

मेरे ख्वाबों में आना आपका कसूर था...

आपसे दिल लगाना हमारा कसूर था...

आप आए थे जिन्दगी में पल दो पल के लिए...

आपको जिन्दगी समझ लेना हमारा कसूर था!

 

Sad Shayari Status in Hindi

हमारे नसीब में हम मोहब्बत मांगना भूल गये...

दिल तो मांगा लेकिन दिलबर मांगना भूल गये...

हमने तो उनको आपना दिल दे दिया...

लेकिन बदले में उनका दिल मांगना भूल गये!

 

अब तो मर जाता है रिश्ता ही बुरे वक़्तों पर...

पहले मर जाते थे रिश्तों को निभाने वाले! 

 

मैने खुदा से पुछा कि क्यूँ आप हर बार...

छीन लेते हो मेरी हर पसंद... वो हंस कर बोला...

मुझे भी पसंद है तेरी हर पसंद!

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

अपनी खुशियाँ लुटाकर उस पर कुर्बान हो जाऊँ...

काश कुछ दिन उसके शहर का मेहमान हो जाऊँ...

वो अपना नायाब दिल मुझको दे दे...

और फिर वापस मांगे... 

मैं मुकर जाऊँ और बेईमान हो जाऊँ!

 

इश्क को ढूंढते ढूंढते...

तेरी दिल की दुनिया मे पहुंचा...

खुशी का दरवाजा खटखटाया...

गम और दर्द ने कदम बढ़ाया...

तेरे कदम चलते गए मुझसे दूर...

मेरे दिल से तेरी चाहत बिसराई न गयी...

मिटा जज्बातों को तुम गये हो दूर...

मुझसे तेरी याद भी भूलाई न गयी!

 

दिल मे छूपा रखी है मोहब्बत काले धन की तरह… 

खुलासा नहीं करता हूँ कि कही हंगामा ना हो जाये!

 

Sad Shayari Status in Hindi

 

तुम्हें सोच कर जो हम मुस्करातें हैं...

वो तुम हो ...

तुम्हें याद करके  रात भर जागते हैं...

वो तुम हो ...

तुम्हें ख्वाबों में नही एहसासों में समाया है...

वो तुम हो ...

सिर्फ  तुम!

 

हक़ीक़त रूबरू हो तो अदाकारी नही चलती...

ख़ुदा के सामने बन्दों की मक्कारी नही चलती…

तुम्हारा दबदबा ख़ाली तुम्हारी ज़िंदगी तक है...

किसी की क़ब्र के अन्दर ज़मींदारी नही चलती!

 

दर्द के हवाले क्यों उल्फत का नाम लेकर...

आँखों से छलकते है अश्कों का जाम लेकर!

 

बहुत जुदा है औरों से मेरे दर्द की कहानी...

जख्म का कोई निशां नहीं और दर्द की कोई इंतहा नहीं!

 

आशियाँ बस गया जिनका, उन्हें आबाद रहने दो...

पड़े जो दर्द भरे छाले, जिगर में यूँ ही रहने दो...

कुरेदो ना मेरे दिल को, ये अर्जी है जहां वालों...

छिपा है राज अब तक जो, राज को राज रहने दो!

 

कहीं किसी रोज़ यूँ भी होता...

हमारी हालत तुम्हारी होती...

जो रात हमने गुज़ारी तड़प कर...

वो रात तुमने गुज़ारी होती!

 

खुद को औरों की तवज्जो का तमाशा न करो...

आइना देख लो अहबाब से पूछा न करो...

शेर अच्छे भी कहो, सच भी कहो, कम भी कहो...

दर्द की दौलत-ए-नायाब को रुसवा न करो!

 

गुजारिश हमारी वह मान न सके...

मज़बूरी हमारी वह जान न सके...

कहते हैं मरने के बाद भी याद रखेंगे...

जीते जी जो हमें पहचान न सके!

 

किसी को न पाने से ज़िंदगी खत्म नहीं हो जाती...

पर किसी को पाकर खो देने के बाद कुछ बाकी भी नहीं बचता!

 

बहारों के फूल एक दिन मुरझा जायेंगे...

भूले से कहीं याद तुम्हें हम आ जायेंगे...

अहसास होगा तुमको हमारी मोहब्बत का...

जब कहीं हम तुमसे बहुत दूर चले जायेंगे!

 

कहते हैं प्यार की शुरुआत आँखो से होती है...

यकीन मानो दोस्तो...

प्यार की कीमत भी आँखो से ही चुकानी पड़ती है!

 

पलकों में आँसू और दिल में दर्द सोया है...

हँसने वालों को क्या पता रोने वाला किस कदर रोया है!

 

शायरी ही मेरा नशा शायरी ही मेरा जुनून...

करे जो इश्क मचलती लहरों से...

बस उसी की आशिकी है मुझे कबूल!

 

शायरी ज़हर थी क्या करते हम...

लोग पीते रहे हम पिलाते रहे!

 

न कर मोहब्बत ये तेरे बस की बात नहीं...

वो दिल मोहब्बत करते हैं जो तेरे पास नहीं!

 

चलो अपनी चाहतें नीलाम करते हैं...

मोहब्बत का सौदा सरे आम करते है...

तुम अपना साथ हमारे नाम कर दो...

हम अपनी ज़िन्दगी तुम्हारे नाम करते हैं!

 

रस्मों रिवाज की जो परवाह करते हैं...

प्यार में वो लोग केवल गुनाह करते हैं...

इश्क वो जुनून है जिसमें हर दीवाने...

अपनी खुशी से खुद को तबाह करते हैं!

 

कैसे सीने से लगाऊं के किसी और के हो तुम...

मेरे होते तो बताते मुहब्बत किसे कहते है! 

 

मैं दिन रात उसकी मोहब्बत में खुद को जलाता हूँ...

अब मत पूछना मैं ऐसी दर्द वाली शायरी कहा से लाता हुँ! 

 

यह भी मुमकिन है संभलता न हो दस्तार का बोझ...

सर झुकाने को अकीदत न समझ लिजिएगा!

 

हमारे यहाँ तो जो रुठे उसे मनाते हैं...

तुम्हारे यहाँ नहीं ऐसा रिवाज? हैरत है!

 

ताउम्र जन्नत में रह कर, उसे उजाड़ने में गुज़ार दी...

और जिहाद बस इस बात की थी, कि मरने के बाद जन्नत मिले!

 

मेरे दिल में उतर सके तो शायद ये जान ले...

कितनी खामोश मोहब्बत आपसे करता है कोई!

 

सुना है दुआओं की क़ीमत नहीं होती...

फिर भी कारोबार इसका खूब चलता है!

 

कभी कभी इतना सब्र आ जाता है...

कि जन्मों तक तुम्हारा इंतज़ार कर लूँ...

और किसी पल लगता है कि...

एक पल में भी सदियों की दूरी सिमट आयी हो!

 

कोई नहीं है दुश्मन अपना फिर भी परेशान हूँ मैं...

अपने ही क्यूँ दे रहे है जख्म इस बात से हैरान हूँ मैं!

 

आज महफिल खामोश कैसे है...

दोस्तों जख्म भर गया या… 

मोहब्बत फिर से मिल गयी!

 

कौन कहता है आईना झूठ नहीं बोलता...

वह सिर्फ होठो की मुस्कान देखता है दिल का दर्द नहीं!

 

पुराना ज़हर नए नाम से मिला है मुझे… 

वो आस्तीन नहीं केंचुली बदल रहा था!

 

कभी भूल कर भी मत जाना मोहब्बत के जंगल में…

यहाँ साँप नहीं हमसफ़र डसा करते हैं!

 

खुबिया इतनी तो नही की किसी का दिल जीत सके...

लेकिन....

कुछ पल ऐसे जरूर छोड़ जाएंगे कि...

भूलना भी आसान ना होगा!

 

हुये है सजदे सब मुक्कमल...

आकर तेरी पनाहों में...

अब तेरी मर्जी है तु कर शामिल...

दुवाओं में या गुनाहों में!

 

ना जाने कैसे दिन दिखाए मेरे खुदा ने मुझको...

मिलने से पहले ही खुद से अलग कर दिया तुझको!

 

निकाल दिए जनाजे मुस्कुराकर ख्वाहिशों के...

ज़िन्दगी ने हमारी ऐसा भी वक़्त दिखाया हमें!

 

जिने वाले लाखों होंगे तेरे साथ...

हम तो मरना चाहते है तेरे साथ!

 

दर्द कितने हैं बता नहीं सकता...

ज़ख़्म कितने हैं दिखा नहीं सकता...

आँखों से समझ सको तो समझ लो...

आंसू गिरें हैं कितने गिना नहीं सकता! 

 

ज़िन्दगी की राह कैसी भी हो गुजर जाएगी...

एक दिन हम भी चुपके से चले जायेंगें...

आज रहेंगें दोस्तों के दिल में याद बन कर...

कल आंसू बन कर आँख से निकल जायेंगें! 

 

ऐ खुदा… तूने दिल को पत्थर का ना बना कर...

शीशे का बनाया होता तो...

तोड़ने वाले को कम से कम जख्म तो आया होता...

जो बिठा दिया है यहाँ तन्हा मुझे...

उसे भी कम से कम दर्द का एहसास तो दिलाया होता! 

 

यह आँसू भी एक अलग परेशानी है...

ख़ुशी और गम दोनो की निशानी है...

समझने वाले के लिए तो अनमोल है और...

जो ना समझ पाए उनके लिए तो सिर्फ़ पानी है!

 

चला गया वो कुछ इस तरह...

जैसे वो कभी मेरा था ही नहीं...

मुझे ज़िंदा तो रखा उसने…

मगर मुझ मैं अब मैं ही नहीं...

क्या प्यार ऐसा ही होता हैं...

दिल तो छोड़ गया धड़कने के लिए...

मगर अब कोई जज्बात ही नहीं! 

 

लोग कहते हैं...

जिसे हद से ज्यादा प्यार करो...

वो प्यार की कदर नहीं करता...

पर सच तो यह है कि...

प्यार की कदर जो भी करता है...

उसे कोई प्यार की नहीं करता! 

 

तेरे बिना जिंदगी से कोई शिकवा तो नहीं…

तेरे बिना जिंदगी भी लेकिन जिंदगी नहीं! 

 

आँसू की कीमत वो क्या जाने...

जो हर बात पे आँसू बहाते है...

इसकी कीमत तो उनसे पूँछो...

जो गम में भी मुस्कुराते हैं! 

 

ये तुमने कैसा राब्ता रखा...

ना क़रीब आये ना फ़ासला रखा! 

 

क्यों बहाने करते थे मुझसे रूठ जाने के...

कह देते की दिल में जगह नहीं है तेरे लिए! 

 

मांगना ही छोङ दिया हमने वक्त किसी से...

क्या पता उनके पास इंकार का भी वक्त ना हो! 

 

मोहब्बत की अदालत से मेरी दर्खास्त कर दो...

बहुत काट ली सजा यादों से अब रिहा कर दो! 

 

मुझे रूला कर तुझे जो चैन आता हैं...

खुदा करे तेरा ये चैन यूं ही बरकरार रहे! 

 

शब्द भी हार जाते हैं कई बार जज्बातों से...

कितना भी लिखो कुछ ना कुछ बाकी रह जाता है! 

 

मोहब्बत की बर्बादी का क्या अफसाना था...

दिल के टुकड़े  हो गये पर लोगों ने कहा वाह क्या निशाना था! 

 

मुनासिब समझो तो "मौत" ही दे दो..ए इश्क...

दिल दिया है,इतना दाम तो बनता है मेरा! 

 

चिरागो से न पुछॊ के बाक़ि तेल कितना है...

ना ही सांसों से पूछॊ कि बाक़ि खेल कितना है! 

 

पुछॊ सिर्फ़ कफ़न मे सोये हुये इन्सानो से...

अमल जिन्दगी मे हो तॊ कफ़न मे चेन कितना है! 

 

नज़र घायल जिगर छलनी... जुबां पर सौ सौ ताले हैं... 

मोहब्बत करने वालों के मुकद्दर भी निराले हैं! 

 

कितना भी ... खुश रहने की ... कोशिश कर लो...

जब कोई ... बेहद  याद आता है...

तो सच मे बहुत रुलाता है! 

 

अब उसे रोज़ ना सोचूँ तो बदन टूटता है...

एक उम्र हुई उसकी याद का नशा करते करते! 

 

दिल से दूर जिन्हें हम कर ना सके...

पास भी उन्हें हम कभी पा ना सके! 

 

मुस्कुराहट एक कमाल की “पहेली” है...

जितना बताती है उससे कहीं ज्यादा छुपाती है! 

 

इश्क़ तुने बड़ा नुक़सान किया है मेरा...

मैं तो उस शख़्स से नफ़रत भी नहीं कर सकता! 

 

दाद देते है तुम्हारे नजर-अंदाज करने के हुनर को...

जिसने भी सिखाया वो उस्ताद कमाल का होगा!  

 

बड़ी लम्बी खामोशी से गुजरा हूँ मैं...

किसी से कुछ कहने की कोशिश में! 

 

इतना तो ज़िंदगी में न किसी की खलल पड़े... 

हँसने से हो सुकून न रोने से कल पड़े...

मुद्दत के बाद उसने जो की लुत्फ़ की निगाह...

जी खुश तो हो गया मगर आँसू निकल पड़े! 

 

आधी से ज्यादा शब-ए-ग़म काट चुका हूँ...

अब भी अगर आ जाओ तो ये रात बड़ी है!

 

तन्हाई ना पाए कोई साथ के बाद...

जुदाई ना पाए कोई मुलाकात के बाद! 

 

ना पड़े किसी को किसी की आदत इतनी...

कि हर सांस भी आए उसकी याद के बाद! 

 

हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते...

मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते...

जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो...

जो लहरों में तो डूबे हैं मगर संग बह नहीं सकते! 

 

किसी लिबास की ख़ुशबू जब उड़ के आती है...

तेरे बदन की जुदाई बहुत सताती है...

तेरे बगैर मुझे चैन कैसे पड़ता है...

मेरे बगैर तुझे नींद कैसे आती है! 

 

आपकी जुदाई भी हमें प्यार करती है...

आपकी याद बहुत बेकरार करती है...

जाते जाते कहीं भी मुलाकात हो जाये आपसे...

तलाश आपको ये नज़र बार बार करती है! 

 

जुदा होकर भी जुदाई नहीं होती इश्क...

उम्र कैद है प्यारे इसमें रिहाई नहीं होती! 

 

बड़ी मुश्किल से बना हूँ टूट जाने के बाद...

मैं आज भी रो देता हूँ मुस्कुराने के बाद!

 

तुझसे मोहब्बत थी मुझे बेइन्तहा लेकिन...

अक्सर ये महसूस हुआ तेरे जाने के बाद! 

 

अब तक ढून्ढ रहा हूँ मैं अपने अन्दर के उस शख्स को...

जो नज़र से खो गया है नज़र आने के बाद! 

 

ऐसा नहीं के तेरे बाद अहल-ए-करम नहीं मिले...

तुझ सा नहीं मिला कोई, लोग तो कम नहीं मिले...

एक तेरी जुदाई के दर्द की बात और है...

जिनको न सह सके ये दिल ऐसे तो गम नहीं मिले! 

 

वो सूरज की तरह आग उगलते रहे...

हम मुसाफिर सफ़र पे ही चलते रहे...

वो बीते वक़्त थे उन्हें आना न था...

हम सारी रात करवट बदलते रहे! 

 

मेरे ग़म ने होश उनके भी खो दिए... 

वो समझाते समझाते खुद ही रो दिए! 

 

शायरों की बस्ती में कदम रखा तो जाना...

गमों की महफिल भी कमाल जमती है! 

 

गम तो है हर एक को मगर हौंसला है जुदा-जुदा...

कोई टूट कर बिखर गया कोई मुस्कुरा के चल दिया!  

 

निकल आते हैं आंसू हँसते हँसते... 

ये किस ग़म की कसक है हर खुशी में! 

 

चाहा था मुक्कमल हो मेरे गम की कहानी...

मैं लिख ना सका कुछ भी, तेरे नाम से आगे! 

 

चाहत तो हर किसी की पूरी नहीं होती...

ग़मों के बिना जिन्दगी आशा नहीं होती! 

 

कुछ लोग तो बीच मे ही साथ छोड़ देते हूं...

पर बिना किसी के ज़िंदगी अधूरी नहीं होती! 

 

ये कैसा सिलसिला है, तेरे और मेरे दरमियाँ...

फ़ासले भी बहुत हैं और मोहब्बत भी! 

 

बदन में आग सी है चेहरा गुलाब जैसा है...

कि ज़हर-ए-ग़म का नशा भी शराब जैसा है...

इसे कभी कोई देखे कोई पढ़े तो सही...

दिल आइना है तो चेहरा किताब जैसा है! 

 

आधी से ज्यादा शब-ए-ग़म काट चुका हूँ...

अब भी अगर आ जाओ तो ये रात बड़ी है! 

 

दुनिया भी मिली गम-ए-दुनिया भी मिली है...

वो क्यूँ नहीं मिलता जिसे माँगा था खुदा से! 

 

खुश्क आँखों से भी अश्कों की महक आती है... 

तेरे ग़म को ज़माने से मैं छुपाऊं कैसे!