Romantic Shayari in Hindi

Home » Love Shayari » Romantic Shayari in Hindi

Romantic Shayari in Hindi

Romantic Shayari in Hindi

 

ये बेपनाह सुन्दर हुस्न है तेरा और तेरा ये सादगी से शर्माना...

इस चिराग को बुझा दो कहीं आग ना लग जाए...

 

Romantic Shayari in Hindi

 

यूँ निगाहों से निगाहें ना मिलाइये...

हादसे अक्सर इसी चौराहे पर होते हैं...

 

हुस्न वालों को संवरने की क्या जरूरत है...

वो तो सादगी में भी यामत की अदा रखते हैं...

 

शायर तो हम हैं शायरी बना देंगे आपको शायरी में...

कैद कर लेंगे कभी सुनाओ हमें अपनी आवाज...

आपकी आवाज को हम गजल बना देंगे...

 

Romantic Shayari in Hindi

 

घनी ज़ुल्फों के साये में चमकता चाँद सा चेहरा...

तुझे देखूं तो कुछ रातें सुहानी याद आती हैं...

 

यारो कुछ तो जिक्र करो उनकी यामत बाहों का...

वो जो सिमटते होंगे उनमें वो तो मर जाते होंगे...

 

तारीफ लिखने बैठे थे उनकेे मखमली हुस्न पर मगर...

अल्फाज ही थम गये उनकी झुकी आँखें देखकर...

 

Romantic Shayari in Hindi

 

उनके हुस्न का आलम न पूछिये...

बस तस्वीर हो गया हूँ तस्वीर देखकर...

 

मुझे दुनिया की ईदों से भला क्या वास्ता यारों...

हमारा चाँद दिख जाये हमारी ईद हो जाये...

 

कुछ तो धड़कता है रुक-रुक कर मेरे सीने में...

अब खुदा ही जाने वो तेरी याद है या मेरा दिल...

 

Romantic Shayari in Hindi

 

कागज पर तो अदालत चलती है...

हमें तो उनकी आँखो के फैसले मंजूर है...

 

जिनके चेहरे चाँद जैसे होते है ना यारों...

उन्हीं के दिलों में अक्सर दाग हुआ करते हैं...

 

घर से बाहर वो नकाब में निकली सारी गली उनकी फिराक में...

निकली इनकार करते थे वो हमारी मोहब्बत से...

और हमारी ही तस्वीर उनकी किताब से निकली...

 

Romantic Shayari in Hindi

 

क्या पता था कि मोहब्बत ही हो जायेगी...

हमें तो बस तेरा मुस्कुराना अच्छा लगा था...

 

उसने खिड़की से चाँद देखा...

हमने खिड़की में चाँद देखा...

 

कोई कह दे उनसे जाकर की छत पर ना जाया करे... 

शहर में बेवजह ही ईद की तारीख बदल जाती है...

 

Romantic Shayari in Hindi

 

जादू है उसकी हर एक बात में याद बहुत आती है...

दिन और रात में कल जब देखा था मैंने सपना...

रात में तब भी उसका ही हाथ था मेरे हाथ में...

 

हाथ बढ़ाकर छू तो सही मुस्कान हमारी...

सादगी हथेलियों पर ना उतर आऐ तो कहना...

 

एक अरसे के बाद हमें कोई चाहने लगा है...

जो हमारी शायरी पर मुस्कराने लगा है...

 

Romantic Shayari in Hindi

 

कर लेता हूँ बर्दाश्त हर दर्द इसी आस के साथ की...

खुदा नूर भी बरसाता है आमाइशों के बाद...

 

और कोई नहीं है जो मुझको तसल्ली देता हो...

बस तेरी मीठी यादें है जो दिल पर हाथ रख देती है...

 

निगाहों से तुम्हारे दिल का एक पैगाम लिख दूँ...

मोहब्बत वफा का खुशनुमा अंजाम लिख दूँ...

मेरे लबों पर तुम शायरी बन के चले आओ...

सातों जन्म के दिल की धड़कनें तुम्हारे नाम लिख दूँ...

 

Romantic Shayari in Hindi

 

देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं दिल में मेरे सुलगते...

तूफान किसके हैं नहीं गुरा कोई आज तक इस...

रास्ते से हो कर फिर तो ये कदमों के निशान तुम्हारे हैं...

 

खुशबू बनकर आपके पास बिखर जायेंगे हवा बनकर...

आपके सांसों में सामा जायेंगे धड़कन बनकर...

आपके दिल मे उतर जायेंगे जरा महसूस करने की...

कोशिश तो कीजिए दूर रहकर भी पास नजर आयेंगे...

 

मेरी शायरी में जब भी कोई उसका जिक्र...

आता है कलम की तो क्या औकात...

किताब का पन्ना पन्ना इतराता है...

 

Romantic Shayari in Hindi

 

तेरी तस्वीर छूकर देर तक...

उँगलियों में मिठास रहती है...

 

अपने कदमों के निशान मेरे रास्ते से हटा दो...

कहीं ये ना हो कि मैं चलते चलते तेरे पास आ जाऊँ...

 

पायल बेचकर मेरी दिलरुबा ने लगवाए थे... 

मेरे गिटार में तार अब तारों को छेड़ता हूँ तो...

उसमें से छम छम की आवाज आती है...

 

Romantic Shayari in Hindi

 

पूछा जब मैंने उससे कि आज मीठे में क्या है...

शरमा कर उंगली उसने अपने लबों पर रख दी...

 

खूबसूरती का तो हर कोई आशिक होता है...

किसी को खूबसूरत बनाकर...

इश्क किया जाय तो क्या बात है...

 

मेरी हर खुशी हर बात तुम्हारी है साँसों में छुपी ये...

हयात तुम्हारी है दो पल भी नहीं रह सकते तेरे बिन...

मेरी धड़कनों की धड़कती हर आवाज तुम्हारी है...

 

तेरी अदाओं का मेरे पास कोई जवाब नहीं है...

अब मेरी आँखों में तेरे सिवा कोई ख्वाब नहीं है...

तुम मत पूछो मुझे कितनी मोहब्बत है तुमसे...

इतना जानो कि मेरी मोहब्बत का कोई हिसाब नहीं...

 

तुमको मिल जाएगा मुझसे बेहतर मुझको मिल जाएगा...

तुमसे बेहतर पर कभी-कभी लगता है ऐसे हम...

एक-दुसरे को मिल जाते तो शायद होता सबसे बेहतर...

 

आपके प्यार को सलाम किया है जीने का हर अंदाज...

आपके नाम किया है मांग लीजिये आज खुदा से...

कुछ भी मैनें अपनी हर मन्नत को आपके नाम किया है...

 

दिल की किताब में गुलाब उनका था रात की नींदों में...

ख्वाब उनका था कितना प्यार करते हो जब हमने...

उनसे पूछा मर जायेंगे तुम्हारे बिना ये जवाब उनका था...

 

जब से देखा है वो प्यारा चेहरा तब से हम घायल हो गये...

तुमसे जब मोहब्बत मिली तब से हम शायर हो गये...

 

कितनी खूबसूरत हो जाती होगी ये जिंदगी...

जब दोस्त, मोहब्बत और हमसफर एक ही इंसान हो...

 

तुम्हारे लबों पर इकरार है मेरे लबों पर इनकार है...

यही तो सब निशानियाँ है शायद इसी का नाम प्यार है...

 

मेरी धड़कन की आवाज सुननी हो तो मेरे सीने पर...

अपना सर रख वादा है मेरा जिंदगी भर...

तेरे कानों में मेरी मोहब्बत गूंजेगी...

 

कुछ दूर हमारे साथ चलो हम दिल की कहानी कह देंगे...

समझे ना जिसे तुम आखो से वो बात जुबानी कह देंगे... 

 

 

मोहब्बत का कोई रंग नहीं फिर भी वो रंगीन हैं;
प्यार का कोई चेहरा नहीं फिर भी वो हसीन हैं;

 

कल रात भर मैं ख्वाब में उसके आगोश में रहा;
ख्वाब ही सही मगर कुछ पल तो मैं उसका रहा;

 

तेरी चाहत को हम इस तरह चाहने लगें हैं कि ...
चाहत को चाहत से जलन होने लगी हैl 

 

तुझे हक़ है अपनी दुनिया में खुश रहने का...
मेरा क्या... मेरी तो दुनिया ही तू हैl 

 

जाने क्यों आती है याद तुम्हारी,
चुरा ले जाती है आँखों से नींद हमारी,
अब यही ख्याल रहता है सुबह शाम,
कब होगी तुमसे मुलाकात हमारी! 

 

बेहद
खूबसूरत एहसासों से गुज़र रहा है मेरा प्यार...
उधर
बरसात की झड़ी इधर तेरी यादों की फ़ुहार!

 

राहत और चाहत में...बस फर्क है इतना...
राहत बस तुमसे है...और चाहत सिर्फ तुम्हारी! 

 

बंद रखते हैं जुबान लब खोला नहीं करते,
चाँद के सामने सितारे बोला नहीं करते,
बहुत याद करते हैं हम आपको लेकिन,
अपना ये राज़ होंठों से खोला नहीं करते! 

 

कुरबान हो जाऊँ उस दर्द पे ...
जिसका इलाज सिर्फ तुम हो! 

 

तेरी आँखों में हमे जाने क्या नज़र आया...
तेरी यादों का दिल पर सरुर है छाया...
अब हमने चाँद को देखना छोड़ दिया... और
तेरी तस्वीर को दिल में छुपा लिया! 

 

दिल की बातों को आज कहना है तुमको ...
धड़कन बनके तुम्हारे दिल में रहना है हमको!
कहीं रुक ना जाए ये मेरी साँसें ...
इसलिए हर पल तुम्हारे साथ जीना है हमको!  

 

शायर तो हम है शायरी बना देंगे...
आपको शायरी मे क़ैद कर लेंगेl
कभी सूनाओ हमे अपनी आवाज़...
आपकी आवाज़ को हम ग़ज़ल बना देंगेl 

 

कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे,
हम तो दरिया है समंदर में उतर जायेंगे,
वो तरस जायेंगे प्यार की एक बून्द के लिए...
हम तो बादल है प्यार के…
किसी और पर बरस जायेंगे!

 

माना के टूटे हुए फूलों से खुश्बू नहीं आती,
मगर उन्हें किताबों मे सजा लेना भी आसान नहीं होता!

 

लिखना है मुझे भी कुछ गहरा सा...
जिसे कोई भी पढे, पर समझ सिर्फ तुम सको!

 

गुलशन तो तू है मेरा,
बहारों का मैं क्या करूँ...
नैनों मैं बस गए हो तुम,
नज़ारों का मैं क्या करूँ!

 

एक सुकून सा मिलता है तुझे सोचने से भी...
फिर कैसे कह दूँ... मेरा इश्क़ बेवजह सा हैl 

 

जादू है उसकी हर एक बात मे,
याद बहुत आती है दिन और रात मे,
कल जब देखा था मैने सपना रात मे,
तब भी उसका ही हाथ था मेरे हाथ मेl 

 

जरुरी नहीं कि हर बार पैगाम में लफ्ज़ ही हो...
कभी ऐसा भी हो कि मैं सोचूं और तुम समझ लोl 

 

ज़िद तो मोतियों की होती है बिखर जाने की,
हम तो धागा हैं तुमको पिरो के रखेंगे अपनी मोहब्बत मेंl 

 

तेरी ज़ंजीर ऐसी रास आई ...
मैंने कोशिश नही की रिहाई की! 

 

अपने क़दमों के निशान मेरे रास्ते से हटा दो ...
कहीं ये ना हो कि मैं चलते चलते तेरे पास आ जाऊं! 

 

तुमने ना सुनी धडकन हमारी पर हमने ...
महसूस कि सांस तुम्हारी!
इतनी दूर होकर भी पास हो दिल के शायद ...
यही है प्यारी सी मोहब्बत हमारी! 

 

वो अपनी मर्जी से बात करते हैँ और हम कितने पागल हैं ...
जो उनकी मर्जी का इंतजार करते हैं! 

 

हम तेरे ख्वाबो के बिना कभी सो नही सकते,
बिना तेरी याद के कभी खो नही सकते,
तू तो मेरी दिल की धड़कन है साँसे है,
और धड़कन और साँसे मुझसे जुदा हो नही सकते! 

 

जमाने के लिए कल भले ये होली थी,
मुझे तो तेरी यादें, रोज रंग देती हैl 

 

अकेले हम ही शामिल नहीं हैं इस जुर्म में जनाब,
नजरें जब भी मिली थी मुस्कराये तुम भी थेl 

 

बिकते हम भी हैं...
साहब...
बस कीमत मोहब्बत हैंl 

 

सबने कहा, बेहतर सोचो तो बेहतर होगा,
मैंने सोचा; उसको सोचूँ उससे बेहतर क्या होगाl 

 

हैरान हूँ मैं ख़ुद, अपने सब्र का पैमाना देखकर...
उसने याद नहीं किया, और मैंने इंतज़ार नहीं छोड़ाl 

 

हमें ये दिल हारने की बीमारी ना होती,
अगर आपकी दिल जीतने की अदा इतनी प्यारी ना होतीl 

 

कैसे कहूँ कि ...
इस दिल के लिए कितने खास हो तुम,
फासले तो कदमों के हैं,
पर, हर वक्त दिल के पास हो तुमl 

 

मोहब्बत के सभी रंग बहुत ख़ूबसूरत हैं,
लेकिन ....
सबसे ख़ूबसूरत रंग वह है,
जिसमें इज़हार के लिए अल्फ़ाज़ ना होंl 

 

चाहे लाख बंद कर दें मयखाने जमाने वाले,
शहर में कम नहीं है आंखों से पीलाने वालेl 

 

तुम मेरे हो... ऐसी 'हम'... "जिद" नही करेंगे ...
मगर हम 'तुम्हारे' ही रहेंगे...ये तो 'हम'..."हक" से कहेंगेl 

 

कितने अजीब होते हैं ऐसे भी है कुछ बन्धन ...
कोई डोर नही! फिर भी बंध जाते है मनl 

 

ये आँखें हैं जो तुम्हारी, किसी ग़ज़ल की तरह खूबसूरत हैं,
कोई पढ़ ले इन्हें अगर इक दफ़ा तो शायर हो जाएl 

 

दोस्तों के दिल में रहने की इज़ाज़त नहीं मांगी जाती ...
ये तो वो जगह है जहां कब्जा किया जाता है! 

 

देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं,
दिल में मेरे सुलगते तूफ़ान किसके हैं,
नहीं गुज़रा कोई आज तक इस रास्ते से हो कर, 
फिर ये क़दमों के निशान किसके हैंl  

 

मै दीवारों को बातो में लगाए रखूंगा,
तुम चुपके से निकल जाना तस्वीर से अपनीl 

 

बिना छुए ही तुम्हें स्पर्श कर लेना,
बस यही तो एक हुनर है, शायरियों मेंl 

 

ख्वाब झूठे ही सही मग़र...
तुमसे मुलाकात तो करवाते हैंl 

 

तुम्हारी एक मुस्कान से सुधर जाती है तबियत मेरी,
बताओ यार इश्क करती हो या इलाज करती होl

शर्मों हया से उनकी पलकों का झुकना इस तरह...
जैसे कोई फूल झुक रहा हो एक तितली के बोझ सेl  

 

एक तनहा रात में आपकी याद आयी,
याद भुलाने के लिए हमने एक मोमबत्ती जलाई,
उफ़ वो मोमबत्ती क्या क़यामत लायी,
उठते धुए ने भी आपकी तस्वीर बनायींl 

 

किसी को मोहब्बत यादों से,
किसी को मोहब्बत खबाबो से,
किसी को मोहब्बत चेहरे से,
एक हमारा नादान सा दिल,
जिसे मोहब्बत अापकी बातों सेl 

 

एक शायरी कभी तुम्हारी क़लम से ऐसी भी हो...
जो मेरी हो, मुझ पर हो और बस मेरे लिए ही होl 

 

पढ़ी जो पाती प्रेम की, सुर्ख हो गया रंग...
तन तो मेरे संग रहा, मन हुआ तेरे-संगl 

 

कैसे कहूँ कि...
इस दिल के लिए कितने खास हो तुम...
फासले तो कदमों के हैं पर,
हर वक्त दिल के पास हो तुमl 

 

इश्क़ के धागे से बंधा नहीं ...
रूह के हर रेशे से जुड़ा है तेर-मेरा रिशता! 

 

कई ख्वाब मुस्कुराये सरे-आम बेखुदी में ...
मेरे लब पे आ गया था तेरा नाम बेखुदी में! 

 

लबो पे आज उनका नाम आ गया,
प्यासे के हाथ में जैसे जाम आ गया,
डोले कदम तो गिरा उनकी बाहों में जाकर,
आज हमारा पीना ही हमारे काम आ गयाl 

 

मैं तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती,
मैं जवाब बनता अगर तू सबाल होती,
सब जानते है मैं नशा नही करता,
मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होतीl 

 

कुछ ख्वाइशों का...
कत्ल करके मुस्कुरा दो...
जिंदगी खुद-ब-खुद...
बेहतर हो जायेगीl 

 

रेशमी परदों से घर तो सजा लिया मैंने...
मगर चाभियों की ज़िद है,
कमर उसी की होनी चाहिएl 

 

तेरी याद से ही महक जाती है दुनिया मेरी,
ना जाने तेरे दीदार पे क्या आलम होगा! 

 

बहुत सा पानी छुपाया है मैंने अपनी पलकों में​...
जिंदगी लम्बी बहुत है ...
क्या पता कब प्यास लग जाए! 

 

इतनी तहज़ीब से ना नवाज़िये हमें...
साहब हम शायर है आवारा लोगों में आते हैl 

 

नहीं कर सकता कोई साइंटिस्ट बराबरी मेरी ...
मैं अपने चाँद को देखने साइकिल से जाता थाl 

 

एहसास - ए - मोहब्बत क्या है... ज़रा हमसे पूछो...
करवट तुम बदलते हो... नींद मेरी खुल जाती हैl