Motivational Story in Hindi

Home » Anmol Vachan » Motivational Story in Hindi

Motivational Story in Hindi

Motivational Story in Hindi 

 

Story No. 1: 

 

स्कूल टीचर ने बोर्ड पर लिखा...

9×1=9
9×2=18
9×3=27
9×4=36
9×5=45
9×6=54
9×7=63
9×8=72
9×9=81
9×10=89  

 

लिखने के बाद बच्चों को देखा तो बच्चे ...

शिक्षक पर हंस रहे थे, क्योंकि  

आखिरी लाइन गलत थी!  

 

फिर शिक्षक ने कहा: 

मैंने आखिरी लाइन किसी 'उद्देश्य से गलत लिखी' है,  

क्यूंकि मैं तुम सभी को कुछ अत्यंत महत्वपूर्ण सिखाना चाहता हूं! 

 

दुनिया तुम्हारे साथ ऐसा ही व्यवहार करेगी ... 

तुम देख सकते हो कि मैंने 'ऊपर 9 बार सही लिखा' है पर  

किसी ने भी मेरी 'तारीफ' नहीं की!

पर मेरी सिर्फ 'एक ही गलती' पर तुम लोग

'हंसे' और मेरी आलोचना भी की। 

 

तो यही नसीहत है आपके लिए...

"दुनिया कभी भी 'आपके लाख अच्छे कार्यों' की 

'सराहना' नहीं करेगी, परन्तु आपके द्वारा की गई  

'एक गलती' की 'आलोचना' जरूर करेगी।" 

 

Story No. 2:  

 

एक दिन एक चिड़िया अपने चिड़े से बोली...
तुम मुझे छोड़ कर कभी उड़ तो नहीं जाओगे!

चिड़े ने कहा...
उड़ जाऊं तो तुम मुझे पकड़ लेना!

चिड़िया ने कहा...
मैं तुम्हें पकड़ तो सकती हूँ...
पर फिर पा तो नहीं सकती!

यह सुन चिड़े की आँखों में आंसू आ गए और...
उसने अपने पंख तोड़ दिए और बोला अब हम हमेशा साथ रहेंगे

लेकिन एक दिन जोर से तूफान आया...
चिड़िया उड़ने लगी तभी चिड़ा बोला...
तुम उड़ जाओ मैं नहीं उड़ सकता! 

चिड़िया ने कहा...
अच्छा अपना ख्याल रखना कहकर उड़ गई!

जब तूफान थमा और चिड़िया वापस आई तो उसने देखा कि...
चिड़ा मर चुका था और एक डाली पर लिखा था...

काश तुम एक बार तो कहती कि मैं तुम्हें नहीं छोड़ सकती...
तो शायद मैं तूफ़ान से लड़कर भी जिंदा रहता!

 

ज़िन्दगी के पाँच कड़वे सच :-
सच नं. 1 
माँ के सिवा कोई वफादार नहीं हो सकता! 

 

सच नं. 2 
गरीब का कोई दोस्त नहीं हो सकता! 

 

सच नं. 3 
आज भी लोग अच्छी सोच को नहीं...
अच्छी सूरत को तरजीह देते हैं! 

 

सच नं. 4 
इज्जत सिर्फ पैसे की है इंसान की नहीं! 

 

सच न. 5 
जिस शख्स को अपना खास समझो...
अधिकतर वही शख्स दुख दर्द देता है!