Motivational Quotes in Hindi

Home » Hindi Quotes » Motivational Quotes in Hindi

Motivational Quotes in Hindi

Motivational Quotes in Hindi

 

फलदार पेड़ और गुणवान व्यक्ति ही झुकते हैं...

सुखा पेड़ और मुर्ख व्यक्ति कभी नहीं झुकते...

कदर किरदार की होती है वरना…

कद में तो साया भी इंसान से बड़ा होता है!

 

आंखें दुनिया की...तमाम मुसीबत समेट लेती है...

जब रोती है तो दिल को हिला देती है और...

जब बन्द होती है तो दुनिया को रुला देती है...

 

उड़ने दो मिट्टी को आखिर कहाँ तक उड़ेगी...

हवाओं ने जब साथ छोड़ा तो जमीन पर ही गिरेगी...

जो लोग आलोचना से डरते हैं...

वे जीवन में कुछ नहीं कर पाते हैं...

सफर जितना कठिन होता है...

मंजिल उतनी ही शानदार होती है!

 

कहीं मिलेगी जिंदगी में प्रशंसा तो...

कहीं नाराजगियों का बहाव मिलेगा...

कहीं मिलेगी सच्चे मन से दुआ तो...

कहीं भावनाओं में दुर्भाव मिलेगा...

तू चलाचल राही अपने कर्मपथ पर...

जैसा तेरा भाव वैसा प्रभाव मिलेगा!

 

महिमा तुम्हारी निराली है...

सूरत तुम्हारी प्यारी है...

परवाह नहीं अब इस दुनिया की...

हमारे साथ में तो कृष्ण मुरारी है...

मोह इतना न करे कि ...

बुराईयां छुप जाएँ और...

घृणा भी इतनी न करें कि...

अच्छाइयां देख ही न पाए।

 

नींद के भी बड़े अजीब नखरे हैं...

जब आ जाती है तो सब कुछ भुला देती हैं...

और ना आये तो भुला हुआ...

सब कुछ याद करा देती हैं!

 

सृष्टि कितनी भी परिवर्तित हो जाए किन्तु...

फिर भी हम पूर्ण सुखी नहीं हो सकते परंतु...

दृष्टि थोड़ी सी परिवर्तित हो जाए तो...

हम सुखी हो सकते हैं... जैसी दृष्टी-वैसी सृष्टि!

 

मांगी हुई खुशियों से किसका भला होता है...

किस्मत में जो लिखा होता है...

उतना ही अदा होता है न डर रे मन दुनिया से...

यहाँ किसी के चाहने से नहीं किसी का बुरा होता है...

मिलता है वही जो हमने बोया होता है!

 

हर तरह का वक़्त आता है ज़िंदगी में...

वक़्त के गुज़रने में वक़्त नहीं लगता...

जो उड़ते हैं अहम के आसमानों में उन्हें*

जमीन पर आने में वक़्त नहीं लगता!

 

ताकत की जरुरत तभी होती है...

जब कुछ बुरा करना हो वरना...

दुनिया में सब कुछ पाने के लिए...

प्रेम ही काफी है!

 

भाग्य बारिश का पानी है और...

परिश्रम कुंए का जल बारिश में...

नहाना आसान तो है लेकिन...

रोज नहाने के लिए हम बारिश के सहारे...

नहीं रह सकते इसी प्रकार भाग्य से कभी-कभी...

कुछ चीजें आसानी से मिल जाती है...

किन्तु हमेशा भाग्य के भरोसे...

नहीं जी सकते कर्म ही असली भाग्य है!

 
बहुत मुश्किल है उस शख्स को गिराना...

जिसे चलना ही ठोकरों ने सिखाया हो!

 

परिस्थिति कुछ भी हो डट कर खड़े रहना चाहिए...

सही समय आने पर...

खट्टे आम भी बदल कर मीठा आम बन जाता है!

 

पूरी जिंदगी लगा दी चाबी खोजने में...

अंत में पता चला कि...

ताला क्या दरवाजे भी नहीं है परमात्मा के घर में!

 

जो भविष्य की ज्यादा फ़िक्र करता है उसका वर्तमान...

बिगड़ने लगता है... अतः 

भूत भविष्य की ज्यादा न सोचे...

सफलता के लिए वर्तमान पर ध्यान केन्द्रित करें!

 

भाग्य और झूठ के साथ जितनी ज्यादा उम्मीद करोगे...

वो उतना ही ज्यादा निराश करेगा और...

कर्म और सच पर जितना जोर दोगे...

वो उम्मीद से सदैव ही ज्यादा देगा!

 

प्रयत्न करने से कभी न चूकें...

हिम्मत नहीं तो प्रतिष्ठा नहीं...

विरोधी नहीं तो प्रगति नहीं!

 

जो पानी में भीगेगा वो सिर्फ लिबास बदल सकता है...

लेकिन जो पसीने में भीगता है...

वो इतिहास बदल सकता है!

 

कुछ नेकियाँ और कुछ अच्छाइयाँ...

अपने जीवन में ऐसी भी करनी चाहिए...

जिनका ईश्वर के सिवाय कोई और गवाह ना हो!

 

सकारात्मक विचार... 

एक स्वच्छ ईंधन है जो कि...

आपको हमेशा ऊँचा उठाता है!

 

अगर जिंदगी को "कामयाब" बनाना हो तो याद रखें...

पाँव भले ही "फिसल" जाये पर "जुबान" को...

कभी मत फिसलने देना!

 

माना कि आप किसी का भाग्य नहीं...

बदल सकते लेकिन अच्छी प्रेरणा...

देकर किसी का मार्गदर्शन तो कर सकते हैं...

भगवान कहते हैं जीवन में कभी मौका...

मिले तो सारथी बनना स्वार्थी नहीं!

 

हमेशा शांत रहे जीवन में खुद को बहुत मजबूत पायेंगे...

क्योंकि लोहा ठंडा रहने पर ही मजबूत होता है...

और गर्म होने पर तो उसे...

किसी भी आकार में ढाल दिया जाता है!

 

वो कागज की दौलत ही क्या...

जो पानी से गल जाये और आग से जल जाये!

दौलत तो दुआओं में होती है न पानी से गलती है...

और न आग से जलती है!

 

आनंद लूट ले बन्दे प्रभु की बन्दगी का...

ना जाने कब छूट जाये साथ जिन्दगी का...

ईश्वर से मेरी एक ही प्रार्थना है...

महंगी घड़ी सबको दे देना लेकिन...

मुश्किल घड़ी किसी को न देना!

 

आजाद रहो अपने विचारों से लेकिन...

बंधे रहो अपने संस्कारों से!

 

इंसान अपनी कमाई के हिसाब से नहीं...

अपनी जरूरत के हिसाब से गरीब होता है!

 

जेब का वजन बढ़ाते बढ़ाते...

अगर रिश्तों का वजन घटने लगे...

तो समझ लेना कि सौदा घाटे का ही है!

 

विश्वास किसी पर इतना करो कि वो तुम्हे छलते समय...

खुद को दोषी समझे और प्रेम किसी से इतना करो कि...

उसके मन में सदैव तुम्हें खोने का डर बना रहे!

 

जिन्होंने आपका संघर्ष देखा है...

सिर्फ वही आपकी कामयाबी की कीमत जानते हैं...

अन्यथा औरों के लिए तो...

आपकी किस्मत बहुत अच्छी है!

 

कोशिश करे कि जिंदगी का हर लम्हा...

अपनी तरफ से हर किसी के साथ अच्छे से गुजरे...

क्योकि जिन्दगी नहीं रहती पर अच्छी यादें हमेशा जिन्दा रहती हैं!

 

कैलेंडर हमेशा तारीख को बदलता है...

पर एक दिन ऐसी तारीख भी आती है कि...

जो कैलेंडर को ही बदल देती है...

इसलिए सब्र रखो वक़्त हर किसी का आता है!

 

मंजिलें आसान हो जाती है जब...

कोई अपना अपनेपन से कहता है...

तू चिंता मत कर सब ठीक हो जाएगा!

 

सत्य हमेशा पानी में तेल की एक बून्द के समान होता है...

आप कितना भी पानी डालें वह हमेशा ऊपर ही तैरता है...

इसलिये सच्चाई और सच्चे सम्बन्ध हमेशा कायम रहते हैं!

 

जहाँ अपनो की याद न आए वो तन्हाई किस काम की...

बिगड़े रिश्ते न बने तो खुदाई किस काम की...

बेशक अपनी मंज़िल तक जाना है...

पर जहाँ से अपने ना दिखे वो ऊंचाई किस काम की!

 

दुख के दस्तावेज़ हो या सुख के हो वसीयत...

ध्यान से देखेंगे तो नीचे ख़ुद के ही दस्तख़त मिलेंगे...

बच्चे वसीयत पूछते हैं... रिश्ते हैसियत पूछते हैं...

वो सिर्फ़ दोस्त ही हैं जो ख़ैरियत पूछते हैं!

 

छाते और दिमाग़ की उपयोगिता तभी है...

जब दोनो खुले हो अन्यथा दोनों हमारे लिए बोझ ही है!

 

यूं तो जिंदगी में आवाज देने वाले ढेरों मिल जाते हैं...

लेकिन हम ठहरते वही हैं जहाँ...

अपनेपन का अहसास होता है!

 

सच वह दौलत है जिसे पहले खर्च करो...

और ज़िंदगी भर आनंद करो...

झूठ वह क़र्ज़ है जिससे क्षणिक सुख पाओ...

और ज़िंदगी भर चुकाते रहो!

 

हैसियत का क़भी गुमान न करो...

उड़ान ज़मीन से शुरू और ज़मीन पे ख़त्म होती है!

 

किसी से रिश्ता क्या है... 

ये हमें मालूम हो जरुरी तो नहीं...

हाँ उस रिश्ते में कितना अपनापन है...

ये महसूस होना जरुरी है!

 

रिश्ते और पतंग जितनी उँचाई पर होते हैं...

काटने वालो की संख्या उतनी अधिक होती है!

 

यूं तो जिंदगी में आवाज देने वाले ढेरों मिल जायेंगे...

लेकिन बैठिए वहीं जहां अपनेपन का अहसास हो!

 

अपनी गलतियों से तकदीर को बदनाम ना कर...

तकदीर तो खुद हिम्मत की मोहताज हुआ करती है!

 

ये जिदंगी... तमन्नाओं का गुलदस्ता ही तो है...

कुछ महकती है कुछ मुरझाती है और कुछ चुभ जाती है!

 

अगर आपके पास मन की शांति है तो...

समझ लेना आपसे अधिक भाग्यशाली कोई नहीं है!

 

जीवन मिलना भाग्य की बात है मृत्यु होना समय की बात है...

लेकिन मृत्यु के बाद भी लोगों के दिल में रहना कर्मों के उपर है!

 

परेशानियां... तो सभी को है दोस्तों...

पर मुस्करानें... में क्या जाता है!

 

बेशक़ पलट के देखो... वो बीता कल है...

पर बढ़ना तो उधर ही है... जहाँ आने वाला कल है!

 

पुरानी शाख से पूछो जीना कितना मुश्किल है...

नये पत्ते तो बस अपनी अदाकारी में रहते हैं!

 

नसीहत नर्म लहजे में ही अच्छी लगती है क्योंकि... 

दस्तक का मक़सद दरवाज़ा खुलवाना होता है तोडना नहीं!

 

कपड़े और चेहरे अक्सर झूठ बोला करते हैं...

इंसान की असलियत तो वक्त बताता है!

 

प्रेम की डोर बहुत नाज़ुक होती है...

लेकिन मजबूत भी इतनी कि वह ईश्वर को भी बांध सकती है!

 

जिस दिन हम ये समझ जायेंगे कि सामने वाला गलत नहीं है...

सिर्फ उसकी सोच हमसे अलग है उस दिन जीवन से...

दुःख समाप्त हो जायेंगे!

 

"बड़प्पन" वह गुण है जो पद से नहीं बल्कि...

"संस्कारों" से प्राप्त होता है!

 

रिश्तों  से भरी  दुनिया में अगर  किसी  को परखने की...

नौबत नहीं आयी है तो समझ लेना कि वक्त ने...

आपसे बड़ी शिद्दत से रिश्तेदारी निभाई है!

 

परमात्मा को निरंतर याद करने से मन उसी प्रकार से...

शुद्ध और निर्मल हो जाता है जैसे...

जंग लगे लोहे को बार बार रगड़ने से साफ़ हो जाता है!

 

हमारी नियत से ईश्वर प्रसन्न होते हैं और दिखावे से इंसान...

यह हम पर निर्भर करता है कि हम किसे प्रसन्न करना चाहते है!

 

जख्म  वही है... जो छुपा लिया जाए...

जो बता दिया जाए... वो तमाशा बन जाता है!

 

हर चीज वही मिल जाती है जहाँ वो खोयी हो... लेकिन

विश्वास वहाँ कभी नहीं मिलता जहाँ एक बार खो जाता है!

 

अक्सर वही लोग हम पर उँगलियाँ उठाते हैं...

जिनकी हमें छुने की औकात नहीं होती!

 

सुखी होने के बहुत से रास्ते हैं... 

पर दूसरों से ज्यादा सुखी होने का कोई रास्ता नहीं है!

 

मैं लोगों से मुलाक़ातों के लम्हे याद रखता हूँ...

मैं बातें भूल भी जाऊं तो लहजे याद रखता हूँ...

ज़रा सा हट के चलता हूँ ज़माने की रवायत से...

जो सहारा देते हैं वो कंधे हमेशा याद रखता हूँ!

 

सब दुःख दूर होने के बाद मन प्रसन्न होगा ये आपका भ्रम है...

हकीकत ये है कि मन प्रसन्न रखो सब दुःख दूर हो जायेंगे!

 

थमती नहीं ज़िन्दगी कभी किसी के बिना...

लेकिन ये गुज़रती भी नहीं अपनों के बिना!

 

संत और बसंत में एक ही समानता है...

जब बसंत आता है तो प्रकृति सुधर जाती है...

और संत आते हैं तो संस्कृति सुधर जाती है!

संघर्ष पिता से सीखें और संस्कार माँ से सीखें... 

और बाकी सब कुछ दुनिया सिखा देती है!

 

यहाँ हर कोई रखता है ख़बर ग़ैरों के गुनाहों की...

अजब फितरत है कोई आइना नहीं रखता!

 

सुलह कर लो अपनी किस्मत से...

एक वही है जो बिकती नहीं रिश्वत से!

 

दुश्मनी हो जाती है मुफ़्त में सैकड़ों लोगों से...

इंसान का बेहतरीन होना भी एक गुनाह है!

 

जिदंगी का खुबसूरत लम्हा कौन सा होता है?

जब आपका परिवार आपको दोस्त समझने लगे और...

आपका दोस्त ही आपको अपना परिवार!

 

सुख हो लेकिन शांति ना हो तो...

समझ लेना कि...

आप सुविधा को ग़लती से सुख समझ रहे हैं!

 

इंतजार अक्सर फैसला सूना देता है...

देर हो गयी तो दूरियाँ बढ़ा देता है!

 

शब्दों का भी तापमान होता है...

ये सुकून भी देते हैं और जला भी देते हैं!

 

खुशियाँ कम और अरमान बहुत हैं...

जिसे भी देखो परेशान बहुत है!

 

करीब से देखा तो निकला रेत का घर...

मगर दूर से इसकी शान बहुत है...

कहते हैं सच का कोई मुकाबला नहीं...

मगर आज झूठ की पहचान बहुत है...

मुश्किल से मिलता है शहर में आदमी...

यूं तो कहने को इन्सान बहुत हैं!

 

छोटे बच्चे के निकले आँसू...

और सच्चे प्यार में निकले आँसू एक सामान हैं...

दोनों जानते हैं दर्द कहाँ है पर किसी को बता नहीं सकते!

 

बहुत ही आसान है ज़मीन पर मकान बना लेना...

दिल में जगह बनाने में ज़िन्दगी गुज़र जाती है!

 

ऊँचा होने का गुमान और छोटा होने का मलाल मिथ्या है...

खेल खत्म होने के बाद...

शतरंज के सब मोहरे एक ही डिब्बे मे रखे जाते हैं!

 

परोपकार बहुत विश्वसनीय कार्य है...

जिसका ईश्वर के अतिरिक्त कोई साक्षी नहीं है!

 

केवल आत्म विश्वास होना चाहिए...

जिंदगी तो कहीं से भी शुरू हो सकती है!

 

दुनिया का सबसे बेहतरीन रिश्ता वही होता है...

जहाँ एक हल्की सी मुस्कुराहट और छोटी सी...

माफी से जिंदगी दुबारा पहले जैसी हो जाती है!

 

सम्पर्क और संवाद नियमित रूप से बनाए रखें क्योंकि...

अज़नबियों के शोर से ज्यादा अपनों की चुप्पी परेशान करती है!

 

उस पछतावे के साथ मत जागो...

जिसे आप कल पूरा नहीं कर सको...

उस संकल्प के साथ जागो...

जिसे आपको आज पूरा करना है!

 

सेवा सभी की करिये मगर आशा किसी से भी न रखिये...

क्योंकि सेवा का सही मूल्य भगवान ही दे सकते हैं इंसान नहीं...

बुराई वो ही करते हैं जो बराबरी नहीं कर सकते!

 

बस एक तज़ुर्बा लिया है ज़िन्दगी से...

अपनो के नज़दीक रहना है तो खामोश रहो और...

अपनो को नज़दीक रखना है तो कोई भी बात दिल पर मत लो!

 

गुलाब ऎसे ही थोड़े गुलाब होता है...

ये अदा काँटों में पलने के बाद आती है!

 

खुशियों की कोई दुकान नहीं होती है...

इसकी नीव हमें खुद ही रखना पड़ती है!

 

समय के पास इतना समय नहीं है कि...

वह आपको दुबारा समय दे सके...

जिन्दगी समझ आ गयी तो अकेले में मेला...

और ना समझ आयी तो मेले में अकेला! 

 

कितना अच्छा लगता है ये सुनना जब कोई...

व्यस्त होने पर भी ये बोले...

आप से ज़्यादा ज़रूरी नहीँ है कुछ भी मेरे लिये!

 

भ्रम हमेशा रिश्तों को बिखेरता है और...

प्रेम से अजनबी भी रिश्तों में बंध जाते हैं!

 

जैसे जैसे उम्र गुज़रती है अहसास होने लगता है कि...

माँ बाप हर चीज़ के बारे में सही कहते थे!

 

ऐ सूर्य देव मेरे अपनो को यह पैगाम देना...

खुशियों का दिन हँसी की शाम देना...

जब कोई पढे प्यार से मेरे इस पैगाम को...

तो उन को चेहरे पर प्यारी सी मुस्कान देना!

 

आंसु अगर आए आँखो से तो खुद ही पोछ लेना...

लोग अगर तुम्हारे आँसू पोछने आएंगे तो सौदा करेंगे!

 

जीवन को इतना शानदार बनाओ किआपको याद करके...

किसी निराश व्यक्ति की आखों में भी चमक आ जाए...

जब तक साँस है "टकराव" मिलता रहेगा...

जब तक रिश्ते हैं "घाव" मिलता रहेगा...

पीठ पीछे जो बोलते हैं उन्हें पीछे ही रहने दो...

अगर हमारे कर्म, भावना और रास्ता सही है...

तो गैरों से भी "लगाव" मिलता रहेगा!

 

कुछ फुलों की तरह मुस्कुराते रहिये...

भवरों की तरह गुनगुनाते रहिये...

चुप रहने से रिस्ता भी उदास हो जाता है...

कुछ उनकी सुनिये कुछ अपनी सुनते रहिये...

भूल जाइये शिकवे-शिकायतों के पलों को और...

छोटी-छोटी खुशियों के मोती लुटाते रहिये!

सदा-मुस्कुराते-रहिये...

 

ज्यादा खुश रहना भी पाप है इस जग में...

लोग अक्सर खिले हुए फूल को तोड़ देते हैं!

 

परिश्रम के समय कोई नजदीक नहीं आता और...

सफलता के बाद किसी को आमंत्रित नहीं करना पड़ता!

 

"समझनी" है ज़िन्दगी तो "पीछे" देखो...

और "जीना" है ज़िन्दगी तो "आगे" देखो!

 

गुज़र जाते हैं खूबसूरत लम्हें यूं ही मुसाफिरों की तरह...

यादें वहीं खडी रह जाती हैं रूके रास्तों की तरह!

 

कुशल व्यवहार आपके जीवन का आईना है...

इसका आप जितना अधिक इस्तेमाल करेंगे...

आपकी चमक उतनी ही बढ़ जाएगी!


       
जिंदगी में खत्म होने जैसा कुछ नहीं होता...

हमेशा एक नई शुरुआत आपका इंतजार करती है!

 

सुख हो लेकिन शांति ना हो तो समझ लेना कि... 

आप सुविधा को ग़लती से सुख समझ रहे हैं!